शुक्रवार, अप्रैल 12, 2024
Google search engine
होमNEWSराजस्थान में आकाशीय बिजली से 6 की मौत, संभल कर रहें IMD...

राजस्थान में आकाशीय बिजली से 6 की मौत, संभल कर रहें IMD ने जारी किया अलर्ट

पश्चिमी विक्षोभ सक्रिय होने के कारण शुक्रवार को राजस्थान में मौसम का मिजाज बदल गया। कई जिलों में बारिश और ओलावृष्टि का दौर शुरु हुआ। तेज हवा के साथ बारिश का दौर जारी है। वहीं प्रदेश के अलग-अलग जिलों में आकाशीय बिजली से छह लोगों की मौत हो गई। उधर, मौसम विभाग के अनुसार 2 मार्च को पश्चिमी विक्षोभ का असर देखने को मिलेगा। इसके प्रभाव से बीकानेर, जोधपुर, अजमेर, उदयपुर, कोटा, जयपुर व भरतपुर संभाग के कुछ भागों में तेज हवा के साथ बारिश होने की संभावना है। इसके अलावा कुछ जगहों पर ओले भी गिर सकते है।

यहां गिरी आकाशीय बिजली

सवाईमाधोपुर जिले में शुक्रवार को दोपहर बाद अचानक हुए मौसम परिवर्तन से क्षेत्र में काफी नुकसान हुआ है। दोपहर करीब एक बजे आकाशीय बिजली की गड़गड़ाहट और तेज हवा के साथ मौसम बदला और कई जगह बारिश के साथ ओले भी गिरे। इस दौरान आकाशीय बिजली गिरने से जिले में तीन लोगों की मौत हो गई। वहीं कई भेड़-बकरियां भी काल का ग्रास बन गई। बारिश के दौरान कई जगह गिरे ओलों ने गेहूं व सरसों की फसल को भी नुकसान पहुंचाया। 

चौथकाबरवाड़ा तहसील में आकाशीय बिजली गिरने से बगीना गांव निवासी दंपती राजेंद्र मीना पुत्र हरभजन मीना एवं जलेबी पत्नी राजेंद्र मीना की मौत हो गई। ये दोनों खेत में बकरी चराने गए थे। इनके साथ इनकी बकरियां भी आकाशीय बिजली की चपेट में आ गईं। वहीं मित्रपुरा तहसील क्षेत्र के नानतोड़ी गांव के जंगल में भेड़ चराने गए चरवाहा धन्नालाल मीना की आकाशीय बिजली गिरने से मौत हो गई। इनके साथ 100 से अधिक भेड़ें भी काल का ग्रास बन गईं। मित्रपुरा क्षेत्र में बारिश के साथ चने के आकार के ओले भी गिरे।

दौसा जिले के लालसोट में आकाशीय बिजली गिरने से दो जनों की मौत हो गई। युवक लालसोट से देवली मोड पर बाइस से जा रहा था। वहीं चाकसू तहसील के देवगांव में बीना पत्नी गणेश जाट व विमला पत्नी सीताराम जाट दोनों खेत में सरसों की फसल काटने का कार्य कर रही थी। इस दौरान आकाशीय बिजली गिरने से दोनों गंभीर रूप से झुलस गई। परिजन तुरंत स्थानीय उप जिला अस्पताल में लेकर पहुंचे। जहां चिकित्सकों ने बीना को मृत घोषित कर दिया वहीं विमला को जयपुर रैफर कर दिया।

कार्यालय पर गिरी बिजली, चार कर्मचारी हुए अचेत

टोंक जिले में शुक्रवार को फिर मौसम बदला। कई जगह ओले गिरे। वहीं पीपलू कस्बे में आकाश में तेज गर्जना हुई तथा पंचायत समिति पर बिजली गिरने से चार कर्मचारी अचेत हो गए। बिजली मीटर के तार टूट गए। कार्यालय की दीवारों से प्लास्तर उखड़ा हुआ नजर आया, दीवारों में दरार आ गई। पंचायत समिति में मौजूद स्टॉफ चारों कर्मचारियों को लेकर पीपलू सामुदायिक अस्पताल पहुंचे। जहां पहुंचते-पहुंचते दो कर्मचारियों को होश आ गया। वहीं दो अन्य को भर्ती कर लिया गया। उन्हें भी करीब 15 से 20 मिनट बाद होश आ गया। करीब डेढ़ घंटे बाद उन्हें छुट्टी दे दी गई। वहीं टोडारायसिंह उपखण्ड के कुहाड़ाबुजुर्ग गांव में भी ओले गिरे। इससे फसलों में नुकसान को लेकर किसान चिंतित हो गए।

रिमझिम बारिश के साथ ओले गिरे

केशवरायपाटन. मौसम बदलते के बाद रिमझिम बारिश व ओलावृष्टि ने किसानों की चिंता बढ़ा दी है। यहां सुबह से ही मौसम खुशनुमा रहा। बादल छाए रहे। दोपहर बाद रिमझिम बारिश हुई। क्षेत्र के रंगराजपुरा गांव में बेर की आकार के ओले गिरने से लोग चिंतित हो गए। किसानों ने बताया कि एक मिनट चली ओलावृष्टि से सरसों, गेहूं, धनिया में नुकसान हो सकता है।

RELATED ARTICLES

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments

Discover more from Kailash Bishnoi

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading