Rajasthan Si Paper Leak Case: गोपीराम के पिता बोले मेरा बेटा पढ़ाई में होशियार उसे झूठा फसाया गया

Rajasthan Si Paper Leak Case: राजस्थान एसआई पेपर लीक केस में गोपीराम जांगू के पिता ने बताया कि उनका बेटा पढ़ाई में होशियार है और उसको पेपर लीक मामले में झूठा फसाया जा रहा है साथ ही साथ गोपी राम के पिता ने कहा है कि इतनी राशि में जुटा नहीं सकता गाय भैंस का दूध बेचकर हर महीने दो बार 500 और 1000 रुपए तक का खर्चा उनको देता था उन्होंने कहा है कि ऐसा हो ही नहीं सकता की 20 लाख रुपए में गोपी राम पेपर खरीद सकता है उसे झूठा फसाया जा रहा है यह मामला एसआई भर्ती परीक्षा 2021 का है.

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

राजस्थान एसआई भर्ती परीक्षा 2021 का पेपर लीक और नकल आरोपी लगातार गिरफ्तार हुए हैं उनमें से एक आरोपी गोपीराम जांगू है गोपीराम के पिता की प्रतिक्रिया सामने आई है उन्होंने कहा है कि दूध बेचकर बेटे को पढ़ाई करवाई गोपीराम पढ़ने में होशियार था उन्होंने सरकार से न्याय की गुहार लगाते हुए मामले की निष्पक्ष जांच किए जाने की मांग की है साथ ही उन्होंने आरोप लगाया है कि गोपीराम को झूठा फसाया जा रहा है.

जानकारी के मुताबिक राजस्थान में पुलिस उप निरीक्षक भर्ती परीक्षा 2021 में हुए पेपर लीक मामले को लेकर राजस्थान एसओजी ने 14 ट्रेनी सब इंस्पेक्टर को गिरफ्तार किया था जिसमें राजस्थान का टॉपर नरेश खिलेरी भी शामिल था वही बाड़मेर जिले सांचौर जिले से सटे हुए गाँव सियागो की ढाणी आलेटी गांव निवासी एक आरोपी गोपीराम को भी एसओजी ने गिरफ्तार किया है जो अभी पुलिस कस्टडी में है आरोप है कि यह लोग परीक्षा से पहले प्रश्न पत्र पढ़कर ऐसा ही भर्ती परीक्षा में चयनित हुए थे.

मामले में सियागो की बेरी आलेटी गांव के गोपी राम जांगू पर भी पेपर लीक मामले में उनको भी गिरफ्तार किया गया है और उनको लेकर अब परिवारों जनों ने आरोप लगाया है कि गोपी राम को झूठा फसाया गया है परिजनों का कहना है कि गोपी राम एक गरीब परिवार से है और जो कड़ी मेहनत के बाद परीक्षा में पास हुआ था गोपीराम का परिवार बीपीएल परिवार से है और झोपड़ी में रहता है.

गोपीराम के पिता का कहना है कि उसने प्राथमिक शिक्षा गांव से की है उसके बाद निजी विद्यालय में आठवीं तक पढ़ा और 10वीं में 85% अंक लाने पर विद्यालय प्रशासन और भामाशाह द्वारा 25000 रुपए का पुरस्कार भी दिया गया था उन्होंने बताया कि 2002 से बीपीएल में हूं गोपी राम पर लगे आरोपों की घटना को लेकर उन्होंने बताया कि सुना जरूर है सूचना के माध्यम से लेकिन मामले की पूरी जानकारी नहीं है दसवीं और बारहवीं तक शिक्षा के बाद गोपीराम बाहर तैयारी कर रहा था उन्हें नकल और पेपर लीक करने की बात का तो पता नहीं है लेकिन उनके बेटे को झूठा फसाया गया है.

गोपीराम के पिता ने कहा है कि मेरा बेटा पढ़ने लिखने में होशियार था उन्होंने बताया कि गोपीराम की पढ़ाई के लिए उन्होंने गए और भैंस का दूध बेचकर उनके पढ़ाई के लिए खर्च किया था उन्होंने बताया कि दिनांक 3 मार्च को उनके पास एसओजी का कॉल आया था जिसमें बताया कि आपके बेटे को नकल मामले में गिरफ्तार किया गया है जब कॉल आया तब भी मैंने कहा था कि मेरा बेटा होशियार है नकल नहीं कर सकता पर मैंने कहा कि मेरे साथ गलत हुआ है.

वही जगदीश जाणी के पेपर लेनदेन के सवाल पर गोपीराम के पिता किसनाराम ने बताया कि मैं पूरी जिंदगी में कभी न तो जगदीश जाणी को देखा और ना ही मैं जानता हूं उन्होंने बताया कि 20 लख रुपए देने जैसी मेरी औकात ही नहीं है मेरे बेटे को झूठा फसाया गया है किसनाराम ने बताया कि मैं कभी न तो 20 लाख रुपए देखें और नए ही इतनी बड़ी राशि का कभी लेन देन हुआ है मैं तो गाय भैंस का दूध बेचकर अपने बेटे को पढ़ रहा था.

इसके साथ ही गोपीराम के चाचा ने बताया कि गोपीराम हमारे पूरे परिवार में सबसे होशियार लड़का है उसको झूठा फसाया गया है आगे जो भी कार्रवाई वह करेंगे वहीं पड़ोसी हनुमानराम ने बताया कि गोपीराम गरीब परिवार और बीपीएल परिवार से ताल्लुक रखता है ऐसे में 20 लाख रुपए के बड़े लेनदेन का कहीं सवाल तक खड़ा नहीं होता वह पढ़ने में होशियार था उसे फसाया जा रहा है उन्होंने कहा कि पूरे मामले की निष्पक्ष से जांच हो अगर पेपर लीक मामले में उनकी गतिविधि संदिग्ध पाई जाती है तो उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाए अन्यथा निर्दोष को नहीं फसाया जाए गोपीराम मेहनत करके नौकरी में लगा है.

गोपीराम के पिता किसनाराम ने बताया कि इतनी राशि जुटा नहीं सकता गाय भैंस का दूध बेचकर हर महीने दो बार गोपीराम को ₹500 या 1000 उनके खर्चे के लिए देते थे उन्होंने कहा कि ऐसा हो ही नहीं सकता की 20 लाख रुपए में गोपीराम पेपर खरीद सकता है उसे झूठा फसाया जा रहा है इसको लेकर वह आगामी न्यायालय की शरण में जाएंगे हालांकि उनकी आर्थिक स्थिति बेहद कमजोर है लेकिन उन्होंने कहा कि बेटे को न्याय दिलाने के लिए जरूर संघर्ष करूंगा उन्होंने सरकार से मामले की निष्पक्ष जांच की मांग की है.

Leave a Comment

Discover more from Kailash Bishnoi

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading