शिवराज सिंह चौहान के तीखे बोल कमलनाथ खुद गद्दार है 5 साल का हिसाब दे नकुलनाथ लेना ना देना सिर्फ मगन रहना

अमरवाड़ा विधानसभा क्षेत्र के धनोरा पहुंचे पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान ने जनसभा में कमलनाथ पर निशाना साध्यावे कहा कि आप खुद गद्दार हैं जिन्होंने अपनी राजनीति और सीट बचाने के लिए कभी जिले का विकास नहीं किया उन्होंने आदिवासी समाज का अपमान किया है पूर्व विधायक कमलेश प्रताप शाह को गद्दार कहकर उनका अपमान किया है अगर वे क्षेत्र का विकास करते तो कमलेश शाह को भाजपा में क्यों आना पड़ता.

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

इससे पहले बढ़ चोली कीसभा में शिवराज ने संसद नकुल नाथ को भी घेर 5 साल का हिसाब मांगते हुए कहा कि लेना ना देना सिर्फ मगन रहनाक्या करोगे ऐसे सांसद का शिवराज ने कहा जब कांग्रेस की सरकार थी तो घोटाले पर घोटाले होते थे किसी भी प्रदेश में जाता था तो लोग कहते थे कि वह प्रदेश जहां गमले हो रहे हैं कांग्रेस सरकार ने देश को तबाह किया है.

पदाधिकारी में तनातनी

पर चिचोली में मंच पर बैठने को लेकर भाजपा ग्रामीण मंडल पदाधिकारी में तनातनी हो गई जिला अध्यक्ष को भी विरोध का सामना करना पड़ा.

अपनी सरकार की उपलब्धियां बताई

वरिष्ठ कांग्रेस नेता और पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने भाजपा सरकार पर तंज करते हुए कहा कि भाजपा सरकार के 50% कमीशन और भ्रष्टाचार ने प्रदेश की विकास को सालों पीछे धकेल दिया है उन्होंने सोमवार को चंद मेहता और बड़कू ही में आयोजित चुनावी जनसभा को संबोधित किया कहा कि सबसे बड़ी चिंता युवाओं की है जो देश प्रदेश और जिले के भविष्य हैं आज इनका ही भविष्य अंधकार में है उन्होंने आगे कहा कि प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनते ही 27 लाख किसानों का कर्ज माफ हुआ है जिसमें 80000 किस छिंदवाड़ा के भी है.

युवाओं के रोजगार इलाज आर्थिक मदद बच्चों की फीस माफी से लेकर कोई भी काम कभी रोकने नहीं दिया वे लोग आएंगे और कहेंगे कि कमलनाथ ने कुछ नहीं किया लेकिन सच्चाई तो सभी के सामने है उन्होंने कहा कि भाजपा ने मेडिकल कॉलेज का बजट आधा कर दिया कई जनहित देसी योजनाओं को रोकने की कोशिश की मैंने उन्हें सफल नहीं होने दिया भाजपा ने क्या-क्या नहीं कहा और कितने वादे किए लेकिन उसने पूरा वादा भी नहीं किया.

Leave a Comment

Discover more from Kailash Bishnoi

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading